Ghazipur live news

अस्तित्व बचाओ आंदोलन: सवर्ण तथा पिछड़े नेताओं ने खोला मोदी सरकार द्वारा लाये जा रहे अध्यादेश के खिलाफ मोर्चा

astitva-bachao-andolan
गाजीपुर। एससी/एसटी एक्ट के तहत तत्काल बिना जांच गिरफ्तारी रोकने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार द्वारा लाये जा रहे अध्यादेश के खिलाफ जनपद के सभी सवर्ण और पिछड़े वर्ग के नेता आज एक मंच पर दिखे। सभी ने मोदी सरकार के इस तुगलकी फरमान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सभी ने एक स्वर में इस अध्यादेश का विरोध किया तो वंही वापस न होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दे डाली।
ज्ञात हो कि एससी/एसटी एक्ट के बढ़ते दुरपयोग को देखते हुए देश की सर्वोच्च न्यायपालिका ने जांच तक तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी पर दलित वोट बैंक को साधने में लगी केंद्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अध्यादेश लाने का मन बना लिया है। संभवतः सोमवार या मंगलवार को यह अध्यादेश लोकसभा में पेश भी होगा।
जानकारी मिलने पर सवर्ण तथा पिछड़े नेता एक साथ एक स्वर में विरोध पर उतर गये। इसी क्रम में आज शास्त्रीनगर स्थित मैरेज हाल में क्षत्रिय महासभा के तत्वाधान में सभी स्वर्ण तथा पिछड़े वर्ग के नेताओं की एक बैठक आयोजित की गई।
बैठक की अध्यक्षता कर रहे क्षत्रिय महासभा के जिलाध्यक्ष राजकुमार सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार का यह तुगलकी फरमान कतई बर्दाश्त नही किया जाएगा। इस एक्ट के दुरपयोग के कारण ही सुप्रीम कोर्ट ने जांच तक तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगाई थी पर वोट की भूखी सरकार विद्धवान न्यायाधीशों के आदेश के खिलाफ अध्यादेश ला रही है जिसको कतई बर्दाश्त नही किया जाएगा। विरोध का हर सवैधानिक तरीका अख्तियार किया जयेगा पर यह अध्यादेश नही जारी होने दिया जाएगा। सभी पिछड़े वर्ग के नेताओ ने भी इसका जबरजस्त विरोध प्रगट किया।
बैठक में क्षत्रिय समाज के नेताओं के साथ ब्राह्मण, कुशवाहा, यादव एवम वैश्य महासभा के नेताओं समेत अन्य पिछड़ा वर्ग के नेता उपस्थित रहे तथा सभी ने एक स्वर में इसका विरोध किया। उपस्थित सभी पिछड़े वर्ग के नेताओ ने केंद्र सरकार के इस तुगलकी फरमान के खिलाफ सभी को एकजुट होने का अनुरोध किया। इस मौके पर यादव महासभा के जिला अध्यक्ष राम अवतार यादव, ब्राह्मण सेवा मंच के जिला संरक्षक विजय शंकर पांडे, जिला संयोजक चौबे जी, कुशवाहा समाज से सुनील कुशवाहा, गौरव जीत सिंह, सिद्धांत सिंह, करन, राकेश सिंह, जिला उपाध्यक्ष अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा त्रिभुवन सिंह, छात्र नेता विशाल सिंह, अमन सिंह,  प्रेम सिंह,  अभय प्रताप सिंह, पुष्कर सिंह आदि भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।