Ghazipur live news

केरल में बाढ़ ने मचाई भीषण तबाही, 324 लोगों की मौत

KeralaFlood-condition

नई दिल्ली। केरल में बाढ़ ने पिछले 100 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। बारिश और बाढ़ की चपेट में आकर राज्य का कई हिस्से पूरी तरह जलमग्न हो गए हैं। केरल सरकार के मुताबिक बाढ़ की वजह से अबतक 324 लोगों की मौत हो चुकी है और दो लाख 23 हजार 139 लोग बेघर हो गए हैं। सूबे के बदतर हालात को देखते हुए खुद पीएम मोदी ने केरल जाने का फैसला लिया और शुक्रवार की शाम ही केरल रवाना हो गए। गौर करने वाली बात ये है कि पीएम मोदी अटल जी के अंतिम संस्कार के कुछ ही देर बाद जिस तरह काम पर लौटे हैं लोग उनकी तारीफ कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने शाम 7.23 मिनट पर ट्वीट कर बताया कि वे केरल में बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने जा रहे हैं। पीएम मोदी ने शुक्रवार को फोन पर राज्य के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन से बात की और बाढ़ की स्थिति पर चर्चा की। मोदी ने ट्वीट किया कि बाढ़ के कारण पैदा हुई दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति का जायजा लेने शाम को मैं केरल जा रहा हूं। उन्होंने कहा कि केरल के मुख्यमंत्री के साथ टेलीफोन पर बात हुई। हमने राज्य में बाढ़ की स्थिति पर चर्चा की और बचाव अभियान की समीक्षा की। मोदी ने शनिवार को केरल के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने का ऐलान किया।

केरल की पेरियार और इसकी सहायक नदियों में उफान से एनार्कुलम और त्रिशूर के कई कस्बे जलमग्न हो गए हैं। परावुर, कलाडी, चालाकुडी, पेरुं बवूर, मुवातुपुझा शामिल हैं। भारी बारिश, नदियों में बाढ़ की स्थिति और भूस्खलन की घटनाओं की वजह से राज्य में लगभग 324 लोग जान गंवा चुके हैं। मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने शुक्रवार को कहा कि राज्य भर में 1,568 राहत शिविरों में 2.25 लाख लोग रह रहे हैं।