Ghazipur live news

गुजरात में भड़की हिंसा पर उग्र हुए बनारसी, बोले गुजराती मोदी बनारस छोड़ो

varanasi-chodo-modi

वाराणसी। गुजरात में यूपी व बिहार के लोगों पर हो रहे हमले व पलायन की आग अब पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस तक पहुंच गयी है। काशी में जो लोग मोदी, मोदी कहते नहीं थकते थे, वे अब गुजरात में अपने भाईयों पर हो रहे अत्याचार और भाजपा नेताओ की चुप्पी पर मोदी बनारस छोड़ो की तख्तियां लिए पूरे शहर में घूम रहे है। यूपी बिहार एकता मंच की तरफ से लगाये गये इस पोस्टर में शहर में रह रहे गुजराती व मराठियों को एक सप्ताह के अंदर शहर छोडऩे की चेतावनी दी गयी है।

बच्ची के रेप के बाद भड़की हिंसा

ज्ञात हो कि गुजरात में एक बच्ची से रेप के बाद यूपी व बिहार के लोगों पर हमले बढ़ गये हैं। गुजरात में यूपी व बिहार के लोगों का पलायन शुरू हो गया है। साबरमती एक्सप्रेस से लोग तेजी से वापसी कर रहे हैं, जिसको लेकर बनारस में भी आक्रोश बढ़ता जा रहा है। इसको लेकर अब शहर में पोस्टरवार शुरू हो गया है। पीएम नरेन्द्र मोदी बनारस से सांसद है।

गुजराती मोदी बनारस छोड़ो

बनारस से चुनाव लडऩे के पहले उन्होंने सोमनाथ से काशी विश्वनाथ का रिश्ता जोड़ा था। गुजरात के तत्कालीन सीएम का मैजिक बनारस में चला था और लाखों वोट से चुनाव जीता था। इसके बाद से बनारस से पीएम मोदी का रिश्ता बेहद मजबूत हुआ है। पीएम मोदी का असर था कि यूपी चुनाव में उनके संसदीय क्षेत्र की आठों विधानसभा सीट पर पहली बार बीजेपी के विधायकों को जीत मिली है लेकिन अब गुजरात में चले रहे बवाल के चलते बनारस में पीएम मोदी को लेकर विरोध शुरू हो गया है।

बीजेपी में मचा हड़कंप

यूपी, बिहार एकता मंच के लोगों ने शहर में पोस्टर लगाये हैं और हाथ में पोस्टर लेकर विरोध प्रदर्शन भी किया है। पोस्टर में लिखा है कि गुजरात व महाराष्ट्र में उत्तर भारतीयों पर हो रही ङ्क्षहसा के खिलाफ जंग-ए-ऐलान किया गया है। पहले पीएम मोदी के बनारस छोडऩे की अपील की गयी है साथ ही मराठी व गुजराती लोगों को भी एक सप्ताह में शहर छोडऩे को चेतावनी दी गयी है। पोस्टर व विरोध प्रदर्शन को लेकर बीजेपी में हड़कंप मच गया है।