Ghazipur live news

पोल पट्टी खुलने का भय सताया, मंत्रियों ने कवरेज से पत्रकारों को हटाया

manoj-sinha

गाजीपुर। मंत्री के इशारे पर डीएम ने पत्रकारो को जिला योजना के बैठक को कवरेज करने से मना करते हुए जिला पंचायत हाल से बाहर निकलवा दिया। बाद में गलती का एहसास होते ही डीएम ने अपने दूत सदर एसडीएम व सदर तहसीलदार को पत्रकारो के पास भेजा। दोनो पक्षो में सुलह-समझौते के बाद भी पत्रकारो ने कवरेज करने से इंकार कर दिया। रविवार को प्रात: करीब 11:30 बजे जिला पंचायत हाल में जिला योजना की बैठक चल रही थी, इस बैठक में रेल राज्य एवं दूर संचार मंत्री मनोज सिन्हा व प्रभारी मंत्री बृजेश पाठक भी उपस्थित थे। बैठक की कवरेज करने जिला पंचायत हाल में जब पत्रकार पहुंचे तो कुछ देर बाद दोनो मंत्रियों ने आपस में मंत्रणा करके डीएम को इशारा किया इसके बाद जिलाधिकारी के. बाला जी ने कहा कि जो लोग बैठक से संबंधित नही है वह लोग बाहर चलें जाये। इसपर इंडिया टीबी के पत्रकार आलोक त्रिपाठी ने कहा कि पत्रकार भी बाहर चलें जाये तो उन्होने कहा कि हां सभी लोग बाहर चले जाये। इस पर पत्रकार आश्चर्य चकित होते हुए बाहर चलें आये और अपने यूनियन के चुनाव में भाग लेने आ गये।

कुछ देर बाद सदर एसडीएम और तहसीलदार आये और पत्रकारो को समझाते हुए वापस चलने का आग्रह करने लगें। आक्रोशित पत्रकारो ने पत्रकार एकता का नारा देते हुए जाने से इंकार कर दिया। इस घटना की निंदा जिला योजना के बैठक में जिला पंचायत सदस्य से सुबाष राम व गुड्डू यादव ने किया। कहा कि न्यूज कवरेज से मना करना लोक तंत्र के खिलाफ है। राजनैतिक गलियारो में चर्चा है कि भाजपा का सत्ता का नशा सिर पर चढ गया है। यह अपने सत्ता के गुरूर के आगे पत्रकारो को भी अपमानित कर रहें है। नवनिर्वाचित पत्रकारा एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष गुलाब राय ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि प्रशासन को विवेक से काम लेना चाहिए। सरकार की योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए ही पत्रकार बैठक में कवरेज करने गये थे।

Sun Infotech