Ghazipur live news

बेनतीजा रही निजी विद्यालयों संग अभिभावक संघ की मैराथन बैठक, सेंट मेरी रहा अनुपस्थित

abhibhavak-sangh-ghazipur

गाजीपुर। जिलाधिकारी के निर्देश पर राइफल क्लब में निजी विद्यालयों और अभिभावक संघ की बैठक गुरुवार को आयोजित की गयी जिसमें अभिभावकों ने अपनी चार सूत्रीय मांगो के साथ अपनी समस्याओं को रखा। जिलाधिकारी के स्थान पर उनके प्रतिनिधि के रूप में उप जिलाधिकारी जखनियां सदर एसडीएम संग उपस्थित रहे। घंटो वार्ता चलने के बाद भी मामला जस का तस रहा क्योकि सबसे ज्यादा शिकायतें सेंट मेरी की थी पर उन्होंने बैठक में भाग लेना जरुरी नहीं समझा।

चार सूत्रीय मानगो को किया प्रस्तुत

अभिभावक संघ की मांगो में प्रमुख रूप से शुल्क वृद्धि, ड्रेस तथा कॉपी-किताब के नाम पर शोषण, शिक्षक-छात्र अनुपात एवं सभी विद्यालयों में अभिभावक संघ के गठन समेत सभी छोटी बड़ी समस्याओं को विद्यालय प्रबंधको के सम्मुख रखा जिसका जवाब क्रमशः पूर्व सांसद एवं अध्यक्ष जगदीश कुशवाहा द्वारा दिया गया।

mjrp-rajesh-kushwaha

नहीं उपस्थित रहा सेंट मेरी

अभिभावक संघ की शिकायत पर जिलाधिकारी के बालाजी ने सभी निजी विद्यालय के प्रबंधको को तलब किया था परन्तु सबसे ज्यादा शिकायतों वाले सेंट मेरी के विद्यालय प्रबंधन ने बैठक में भाग लेना जरुरी नहीं समझा। इस सन्दर्भ में पूछने पर निजी विद्यालयों के अध्यक्ष जगदीश कुशवाहा ने बताया कि सेंट मेरी प्रबंधन को उपस्थित होना चाहिए था। इस सम्बन्ध में वह उनके प्रधानाचार्य से अवश्य बात करेंगे।

शासनादेश कि धज्जिया उड़ा रहा है सेंट मेरी, ठूस ठूस कर पढ़ रहे बच्चे

बैठक में सभी विद्यालयों ने यह माना कि शासनादेश के अनुसार एक कक्षा में 40 से अधिक छात्र नहीं होने चाहिए जबकि सेंट मेरी के छोटे बच्चों की कक्षा में 70 से भी ज्यादा बच्चे ठूस ठूस क्र भरे जाते है, जो शासनादेश की धज्जिया उड़ाते नजर आते है। सभी ने एक स्वर में सेंट मेरी विद्यालय प्रबंधन का विरोध किया।

जांच में शिकायतें मिली सही

सेंट मेरी विद्यालय प्रबंधन के उपस्थित न होने पर बैठक की अध्यक्षता कर रहे एसडीएम जखनियां ने भी नाराजगी प्रगट की तथा जांच कर उचित कार्यवाही करने का भरोसा दिलाया। गाजीपुर लाइव टीम के तड़बनवा स्थित सेंट मेरी पहुंचने पर विद्यालय बंद मिला तथा सभी सूचना पट्टों को पेपर से ढँक दिया गया था कि बढ़ी हुई फीस का पता न चल सके, जबकि जांच में यह जरूर पाया गया कि शासनादेश की अनदेखी करते हुए विद्यालय द्वारा छोटे बच्चों की कक्षा में में 70 से ज्यादा बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। अब देखना यही है कि जनपद में चल रहे इस मिशनरी के स्कूल पर प्रशासन कितना अपना शिकंजा कस पाता है।

अभिभावक संघ के जिलाध्यक्ष मारुती राय ने कहा कि न्याय मिलने तक यह संघर्ष जारी रहेगा। निजी विद्यालयों की मनमानी अब नहीं चलेगी। बैठक में विद्यालय प्रबंधन में मुख्य रूप से राजेश कुशवाहा, राजेश्वर सिंह, नवीन सिंह, मोहित श्रीवास्तव, अमर सिंह, नदीम अदहमी, नरेंद्र सिंह, अबू फकर खान, योगेंद्र सिंह तथा अभिभावक संघ की ओर से सिद्धार्थ शंकर राय, समीर राय, संजय वर्मा, अनिल विश्वकर्मा, मधुरकांत, अंकित अग्रवाल, रवि राय, प्रशांत राय, श्याम चौधरी, मोंटी बागची आदि उपस्थित रहे।