Ghazipur live news

वाराणसी हादसे में उजड़ गई वृद्ध की दुनियां, बुझ गया एकलौता चिराग

गाज़ीपुर। वाराणसी में हुए हादसे में जनपद ग़ाज़ीपुर के नंदगंज थाने के मुड़वल गांव के लठवा पूरा के रहने वाले ड्राइवर वीरेंद्र सिंह यादव की भी मौत हो गयी है।वीरेंद्र उस बोलेरो गाड़ी को चला रहे थे जिसमें  वीरेंद्र के साथ सहेड़ी निवासी ख़ुशहाल राम और उनके दो पुत्र संजय औऱ शिवबचन सवार थे। ये सभी हादसे के वक्त उस फ्लाई ओवर के पास ही थे जिसका एक हिस्सा गिरने से ये भयानक हादसा हुआ जिसमे इन चारों की मौत हो गयी।

घर का इकलौता चिराग था हादसे का शिकार

ड्राइवर वीरेंद्र अपने माँ बाप के इकलौते पुत्र थे और इनके चार मासूम बच्चे हैं। जिनमे एक लड़की 8 साल की और तीन पुत्र जिनकी उम्र क्रमशः 12 साल, 5 साल और 3 साल है। वीरेंद्र के बूढ़े पिता केदार सिंह यादव की आंखें इस हादसे के बाद पथरा सी गयी हैं। पत्नी धनावती का रो रोकर बुरा हाल है और अपना सुध बुध  खो चुकी है। वीरेंद्र की माँ नेवाती की आंखें भी अपने बेटे की राह देख रहीं हैं और बार बार बेसुध हो जा रहीं हैं।

अपने चार बच्चों और माँ बाप के एकमात्र सहारा वीरेंद्र को इस भयानक हादसे ने लील लिया। अब सरकार इसपर क्या कदम उठाती है ये तो बाद की बात है पर ग़ाज़ीपुर के  दो परिवारों का तो संसार ही इस हादसे में उजड़ गया इसका जिम्मेदार कौन है ये एक बड़ा सवाल है।