आजमगढ़ में प्रधान की हत्या पर फूटा गुस्सा

आजमगढ़ में प्रधान की हत्या पर फूटा गुस्सा

आजमगढ़ में शुक्रवार की शाम तरवा के बासगांव में प्रधान की हत्या के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। लोगों की भीड़ देख बोंगरिया बाजार में भगदड़ मच गई। भगदड़ के बीच एक वाहन से दबकर 12 साल के बालक की मौत हो गई। इससे लोगों का गुस्सा और भड़क गया। लोगों ने बोंगरिया पुलिस चौकी पर धावा बोल दिया। फर्नीचर तोड़ दिए, बाहर खड़ी बाइको में आग लगा दी। इसे रोकने पर पुलिस व पब्लिक में गुरिल्ला युद्ध शुरू हो गया। लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने कई राउंड फायरिंग की। पथराव में कई पुलिस वाले घायल हो गए। घंटों की मशक्कत के बाद किसी तरह मामला शांत किया जा सका। तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस और पीएसी की तैनाती कर दी गई है।

घर से बुला कर प्रधान को मारी गोली
तरवा थाना क्षेत्र के बासगांव निवासी 40 वर्षीय प्रधान सत्यमेव जयते उर्फ पप्पू राम के घर शुक्रवार की शाम करीब पांच बजे एक बाइक से तीन लोग पहुंचे। प्रधान से बात करने के बाद उसे लेकर गांव के बाहर एक सुनसान स्थान पर स्थित ट्यूवबेल पर चले गए। ट्यूबवेल पर पहुंचने पर बदमाशों ने प्रधान के सिर में गोली मार दी। मौके पर ही प्रधान की मौत हो गई। घटना के बाद बदमाश प्रधान के घर दोबारा पहुंचे और प्रधान की हत्या की सूचना देते हुए फरार हो गए। गांव के लोग मौके पर पहुंचे तो प्रधान मृत पड़ा था। घटना की सूचना लगते ही मौके पर गांव के लोगों की भीड़ जु़ट गई। ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर पुलिस भी पहुंच गई। आक्रोशित गांव के लोग पुलिस को शव को नहीं उठाने दे रहे थे। अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। बोगरिया बाजार में भी आक्रोशित लोगों ने जाम लगा दिया, तोड़फोड़ शुरू कर दी। घटना की सूचना मिलते ही एसपी त्रिवेणी सिंह, एसपी सिटी पंकज कुमार पांडेय, सीओ लालगंज अजय कुमार यादव, तरवा थाना प्रभारी मंजय सिंह, मेंहनगर व मेंहनाजपुर थाना प्रभारी भी पहुंच गए।

adminpurvanchal