बाढ़ प्रभावित इलाकों में सुविधाएं नदारद विपक्ष ने उठाए सवाल

बाढ़ प्रभावित इलाकों में सुविधाएं नदारद विपक्ष ने उठाए सवाल

बलिया  : गंगा व  सूरयू के बाढ़ से प्रभावित इलाकों में जिला प्रशासन की ओर से पीडि़तों के लिए जरूरी इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं। इसको लेकर प्रभावित इलाकों के लोगों में आक्रोश है। जबकि संबंधित इलाकों में कोरोना के साथ ही और भी कई तरह की समस्या से लोग जूझ रहे हैं। बहुत से लोग अपनी पशुओं को लेकर बंधे पर शरण लिए हैं तो कुछ लोग अपने घरों में ही इस तबाही को झेलने को विवश हैं। उनके लिए न तो उपचार का कोई बेहतर प्रबंध किया गया है और न ही राशन आदि की व्यवस्था की गई है। कुछ लोग खुद की सुविधा के लिए नाव की व्यवस्था किए हैं लेकिन उन नाविकों को मजदूरी देने की व्यवस्था भी सरकारी स्तर से नहीं की जा  रही है। इस मुद्दे को लेकर विपक्षी दलों के लोगों ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है।

सपा के प्रतिनिधिमंडल ने किया बाढ़ क्षेत्र का भ्रमण

नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी के निर्देश पर समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधि मंडल शुक्रवार को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र मनियर बहेरापार, ककघट्टा खास, रिगवन, सुल्तानपुर, कोटवां, खादीपुर आदि गांवों का दौरा कर बाढ़ व कटान से पीडि़त लोगों का हाल जाना। इस दौरान नेताप्रतिपक्ष के पुत्र रंजीत चौधरी व विधानसभा अध्यक्ष हरिन्द्र ङ्क्षसह ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों को बाढ़ घोषित किया जाना चाहिए। बाढ़ से किसानों के नुकसान हुए फसल का उचित मुआवजा तय होना चाहिए, लेकिन सरकार कोराना के शोर के बीच बाढ़ प्रभावित इलाकों की सुधि लेना भूल गई है। इस मौके पर रामबचन यादव, संकल्प, प्रधान रमाशंकर यादव, उपेन्द्र पटेल, बेरूआरबारी ब्लांक प्रमुख अशोक यादव, धर्मेन्द्र मणिक, सोनू यादव,बृजेश पाण्डेय, उमेश, विजय यादव, प्रधान गंगासागर यादव, बबलू यादव, राणा प्रताप यादव दाढ़ी, राजेश साहनी आदि

adminpurvanchal