धूमधाम से मनी राधा अष्टमी

धूमधाम से मनी राधा अष्टमी

वाराणसी : काशी में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की तरह राधा अष्टमी भी धूमधाम से मनाई गई। हरे कृष्ण हरे राम संकीर्तन सोसायटी ने 18 वर्षों से चली आ रही परंपरा का बुधवार को भी निर्वहन किया। इस्कान में राधा अष्टमी के साथ की राधा गोपाल का दसवां बर्थ डे भी मनाया गया। संकीर्तन सोसायटी हर साल माहेश्वरी भवन में धूमधाम से राधा अष्टमी मनाती है। इस बार कोरोना के कारण आयोजन का रूप संक्षिप्त कर दिया गया। सोसायटी के दीनदयाल प्रभु जी के आवास गुरुबाग पर श्रीश्री राधा रानी जी का प्रकट दिवस मनाया गया। इस दौरान कोरोना प्रोटोकाल का भी ध्यान रखा गया। हरे रामा हरे कृष्णा की धुन पर महिलाओं के साथ बच्चों और पुरुषों ने भी जमकर नृत्य किया। श्री श्री राधा कृष्ण के तेल चित्रों के साथ श्रील प्रभुपाद और श्री श्री नरसिंह देव भगवान के विग्रहों का श्रृगार किया गया। तुलसी आरती, गौर आरती, नरसिंह आरती के साथ राधा रानी जी के प्रशंसा में भजनों का गायन हुआ।  राधा रानी को प्रिय भोज्य सामग्री के साथ छप्पन भोग का अर्पण किया गया। राघवेंद्र प्रभु जी ने बताया कि जिस प्रकार भगवान कृष्ण पूर्ण है उसी तरह से श्री राधा रानी जी भी पूर्ण हैं। श्री राधा रानी जी भगवान श्री कृष्ण की अंतर धारा हैं। वैष्णव आचार्य मान्यता रखते हैं कि अगर परम पुरुष ईश्वर पुरुष हैं तो वह भगवान श्री कृष्णा हैं। यदि परम पुरुष स्त्री हैं तो वह श्री राधा रानी जी हैं। आयोजन के दौरान अध्यक्ष केपी सिंह, महासचिव अनिल सिंह, उपाध्याय राघवेंद्र, महामंत्री मुकेश, दीनदयाल, संजय, पुजारी चंद्रकांत, रजनी माता, जया माता, सीमा माता, प्रभारी प्रियंका माता, गुरु प्रसाद आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।  वहीं, भेलूपुर स्थित इस्कॉन मंदिर पर राधा अष्टमी धूमधाम के साथ राधागोपाल का जन्मदिन भी मना। राधा गोपाल का दसवां बर्थ डे मनाया गया। इस अवसर पर 10 प्रकार के जूस से अभिषेक किया गया। 10 प्रकार के फल, 10 फूल, 10 प्रकार की ज्वेलरी, 10-10 प्रकार की 108 सामग्री से भोग लगाया गया। दस प्रकार की सब्जियां, दस प्रकार की पुड़िया, दस प्रकार की दालें, दस प्रकार के सलाद, दस प्रकार के पापड़, दस प्रकार के ड्राइफ्रूट्स राधा कृष्ण को समर्पित किये गए। दस फ्लेवर्स क्रीम के साथ जन्मदिन केक भी बना और भक्तों को प्रसाद के रूप में वितरित किया गया। इसमें 125 प्रकार के खास भोग राजभोग में लगाया गया। इस दौरान दिन भर भजन कीर्तन का दौर भी चलता रहा।  राधाष्टमी के मौके पर इस्कॉन मंदिर ने 1200 गायों का चारा और 2500 किलो अनाज दान दिया गया। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में काशिराज परिवार की कृष्ण प्रिया जी एवं विष्णु प्रिय जी, इस्कॉन वाराणसी के चेयरमैन अच्युत मोहन दास, अनूप साहनी सीईओ एलिप्सियम आर्किटेक्ट्स, विकास मेहरा डाबर फैमिली, राजेश अग्रवाल, कुशाग्र अग्रवाल आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *