50 लाख से उपर के निर्माण कार्य की डीएम ने की समीक्षा, दिया आवश्यक दिशा-निर्देश

50 लाख से उपर के निर्माण कार्य की डीएम ने की समीक्षा, दिया आवश्यक दिशा-निर्देश

गाजीपुर। जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में गुरुवार को रायफल क्लब सभागार में विकास एवं निर्माण कार्योँ (50 लाख से उपर) की समीक्षा बैठक की गयी। इसमें जिलाधिकारी ने चिकित्सा, समाज कल्याण, दिव्यांग, प्रोवेशन, कृषि, जल निगम, बेसिक शिक्षा, गन्ना, विद्युत,सहकारिता, आर0ई0एस0, बाल विकास, सिचाई, लोक निर्माण विभाग, सेतु निगम, आदि विभागो की विस्तापूर्वक समीक्षा की गयी। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी से निर्माणाधीन, सीएचसी, पीएचसी, जननी सुरक्षा योजना, टीकाकरण, तथा दवाओं की उपलब्धता की जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिया जनपद के समस्त पीएचसी, सीएचसी व जिला अस्पताल में स्वीपरों की संख्या बढाते हुए साफ-सफाई, विद्युत, पानी, शौचालय की व्यवस्था कराने का निर्देश दिया। बताया कि संचारी रोगों से लड़ने के लिए साफ- सफाई अत्यन्त आवश्यक है। सीएचसी, पीएचसी पर तैनात चिकित्सकों की सूची उपलब्ध कराने के साथ ही सम्बन्धित उपजिलाधिकारी को भी देने को कहा, ताकि बराबर निरीक्षण होता रहे। उन्होंने प्रत्येक पीएचसी, सीएचसी के मेन गेट से ओपीडी तक जाने वाली सड़क पर स्ट्रीट लाईट की व्यवस्था अवश्य की जाय, ताकि रात में किसी भी मरीजों को परेशानी ना हो सके। चिकित्सालय परिसर में पुरानी पड़ी एम्बुलेंस को निष्प्रयोज्य घोषित कर नीलामी की कार्रवाई कराने का निर्देश दिया। प्रधानमंत्री जन आरोग्य में संचालित गोल्डेन कार्ड तथा आयुष्मान कार्ड में प्रगति लाने को कहा। तहसील सेवराई क्षे़त्र में अमौरा माइनर के विवाद की शिकायत पर अधिशासी अभियन्ता को सम्बन्धित उपजिलाधिकारी एवं खण्ड विकास अधिकारी से सम्पर्क कर विवाद निस्तराण करने को कहा। विद्युत विभाग को निर्देश दिया कि जनपद में जितने भी बकायेदार धरेलू, विभागीय, व्यवसायिक उनसे वसूली की जाय तथा जिन-जिन विभागों के बिल करेक्शन कराये जाने हैं, वह सम्बधित एसडीओ से मिलकर करेक्शन करा लें। लोक निर्माण विभाग की समीक्षा में वित्तीय वर्ष 2020-21 में स्वीकृत सड़कों की जानकारी लेते हुए जनपद में कितनी सड़कों पर कार्य चल रहा है, इसकी सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि हमारा दायित्क जनपद की सड़कों को सुधारना है। इसके लिए जिससे भी बात करनी पडे़गी करूगा। जनपद की सड़के प्रत्येक दशा में गड्ढामुक्त रहे। सेतु निर्माण में बताया गया कि विजापतपुर जखनियां व सोनवानी चकझम मुहम्मदाबाद में मगई नदी पर निमार्णाधीन सेतु पर कार्य प्रगति बताया गया, जिसपर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिशासी अभियन्ता को स्थलीय निरीक्षण करते हुए फोटोग्राफ्स के साथ उपस्थित होने का निर्देश दिया। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में सही आंकड़ा उपलब्ध न करा पाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए डेटा सुधार कराने का निर्देश दिया तथा जनपद में खाद, यूरिया, डीएपी की उपलब्धता की जानकारी ली तथा निर्देश दिया कि सरकार की लाभपरक योजनाओं का लाभ प्रत्येक दशा में किसानों को उपलब्ध कराया जाय और प्रचार-प्रसार कराते हुए योजनाओं की जानकारी दी जाय। आजीविका मिशन में 1440 लक्ष्य के सापेक्ष 507 पूर्ण होने पर शत-प्रतिशत कराने को कहा। जनपद में तालाब पट्टा के लिए 146 तालाबों में 38 तालाबों का पट्टा होना बताया गया। शेष 112 पर उपजिलाधिकारी से सम्पर्क कर पट्टा कराने का निर्देश दिया। इस मौके पर सामूहिक विवाह, शादी अनुदान में बजट आवंटन, वृद्धा पेंशन, विधवा पेशन, दिव्यांग पेंशन, कन्या शुमंगला योजना की जानकारी ली। आईजीआरएस की समीक्षा में जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि कार्यालयाध्यक्ष यह सुनिश्चित कर ले कि पोर्टल पर एक भी डिफाल्टर केस न रहने पाये शिकायत पत्रों का समय से निस्तारण किया जाये, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। अधिकारी आईजीआरएस पोर्टल की मॉनिटरिंग प्रतिदिन करें। जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी निर्माण कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाये, इसमे किसी प्रकार की लापरवाही पाये जाने पर सम्बन्धित के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि अधिकारी यह सुनिश्चित कर लें कि जिन विभागों की वजह से जनपद की रैकिंग खराब होगी, उसकी जवाब देही तय की जायेगी। सहायक श्रम प्रवर्तन अधिकारी के अनुपस्थित होने पर स्पष्टीकरण का निर्देश दिया। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता, डीएफओ, परियोजना निदेशक, समाज कल्याण अधिकारी, दिव्याग कल्याण अधिकारी, डीएसओ, अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

adminpurvanchal