जारी हुआ दुर्गा पूजा एवं नवरात्रि के गाइडलाइन

जारी हुआ दुर्गा पूजा एवं नवरात्रि के गाइडलाइन

गाजीपुर : शारदीय नवरात्र के आगमन को लेकर भक्तों ने माता के मंदिरों सहित घरों में भी साफ -सफाई शुरू कर दी। शनिवार यानि 17 अक्टूबर को नवरात्र का पहला दिन होगा। बाजार भी पूजा सामग्री से सजने लगे हैं। महिलाएं बाजारों में मातारानी के पूजन को लेकर कलश स्थापना करने के लिए पूजन सामग्री की खरीददारी कर रही हैं।नगर के गोराबाजार, मिश्र बाजार, कचहरी, चीतनाथ, नवाबगंज सहित ग्रामीण क्षेत्रों में मां कामाख्या धाम, कष्टहरणी भवानी आदि मंदिरों में साफ-सफाई का काम जोरों से हो रहा है। मंदिरों को पानी से धोया जा रहा है। वहीं भक्तों ने व्रत रखने की तैयारी शुरू कर दी है। बाजार में नारियल, चुनरी, कट्टू का आटा एवं फल वगैरह की बिक्री तेजी से शुरू हो गई है। नौ दिनों तक चलने वाले दर्शन-पूजन के दौरान देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं के पहुंचने को देखते हुए प्रबंध कमेटियों की ओर से कोविड-19 का पालन करते हुए दर्शन-पूजन की व्यवस्था की जा रही है। मुहम्मदाबाद : शारदीय नवरात्र को लेकर लोग यहां भी तैयारियों में जुट गये हैं। मंदिरों व घरों की साफ-सफाई करायी जा रही है। नवरात्र पर कलश स्थापना व पूजन कार्य को लेकर पूजन सामग्री की दुकानों व कपड़ा आदि के साथ ही मिट्टी के बर्तन की दुकानों पर पहुंचकर लोग खरीदारी में जुटे दिखे। इलाके के करीमुद्दीनपुर स्थित मां कष्टहरणी भवानी मंदिर के प्रबंधक ओंकारनाथ राय ने बताया कि कोविड 19 के गाइड लाइन का पालन करते हुए दर्शन-पूजन होगा। परिसर में अखंड दीप जलाने का कार्य नहीं होगा। सार्वजनिक स्थानों पर मूर्तियों की न की जाए स्थापना शासन द्वारा आगामी त्योहारों के देखते हुए तथा कोविड-19 के मद्देनजर नई गाइड लाइन जारी की गयी है। इसमें रामलीला, मेला, दुर्गा पूजा, मूर्ति विसर्जन, जुलूस से संबंधित सभी दिशा निर्देश विस्तार से दिये गये हैं। शासन द्वारा जारी नई गाइड लाइन का पालन कराने के उद्देश्य से राइफल क्लब में एक बैठक का आयोजन किया गया। डीएम एमपी सिंह ने सख्त निर्देश दिया कि सार्वजनिक स्थानों, चौराहों, सड़कों के किनारे पर मूर्तियों की स्थापना न की जाये। इच्छुक व्यक्ति अपने-अपने घरों पर मूर्ति स्थापित कर पूजा अर्चना कर सकते हैं लेकिन मूर्तियों का आकार छोटा रहे तथा मूर्ति विसर्जन के समय केवल 05 व्यक्तियों को ही अनुमति दी जाएगी। आयोजन स्थल पर प्रवेश व निकास के अलग-अलग द्वार रखने का निर्देश देते हुए इन स्थलों पर केवल उन्हीं व्यक्तियों को प्रवेश की अनुमति होगी जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं होंगे। साथ ही उनके पास फेस मास्क, सैनिटाइजर मौजूद रहेंगे और वे सामाजिक दूरी का पालन अनिवार्य रूप से करेंगे। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में 65 साल से ज्यादा के व्यक्ति एवं 10 साल के उम्र के बच्चे और गर्भवती महिलाएं शामिल नहीं होंगी। बैठक में पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश सिंह सहित सभी अधिकारी, समस्त क्षेत्राधिकारी, दुर्गा पूजा समिति एवं रामलीला कमेटी के पदाधिकारी उपस्थित थे।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *