अब गबन करने वाले प्रधान व सेक्रेटरी जाएंगे जेल

अब गबन करने वाले प्रधान व सेक्रेटरी जाएंगे जेल

गाजीपुर : जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह ने प्रधानों के विरुद्ध शिकायती प्रार्थना पत्रों की जांच के संबंध में सभी नामित नोडल व अतिरिक्त नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे अपनी जांच आख्या रिपोर्ट निष्पक्ष होकर करेंगे। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। इसका विशेष ध्यान दें। अगर किसी भी प्रधान, सेक्रेटरी या सरकारी कर्मचारी द्वारा सरकारी धन का गबन किया गया है तो उसे कतई बक्शा नहीं जाएगा। संबंधित के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उसे जेल भेजा जाएगा। वह सोमवार को कैंप कार्यालय पर प्रधानों के विरुद्ध शिकायती प्रार्थना पत्रों की जांच के संबंध में नामित नोडल अधिकारी व अतिरिक्त नोडल अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। जिलाधिकारी ने जांच अधिकारियों से प्राप्त शिकायतों के प्रारंभिक जांच के लिए उत्तर प्रदेश पंचायत राज जांच नियमावली 1997 की गाइड लाइन के तहत जांच आख्या पूरी करते हुए प्राप्त शिकायतों का निस्तारण करने का निर्देश दिया। कहा कि सभी अधिकारी शासन द्वारा जारी गाइड लाइन के अनुसार ही जांच आख्या पूरी करते हुए निष्पक्ष होकर जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे  जिलाधिकारी ने शासन द्वारा जारी शासनादेश के नियमों की जानकारी देते हुए बताया कि शिकायतों के संबंध में किसी प्रधान या उपप्रधान के विरुद्ध शिकायत करने वाला कोई व्यक्ति अपनी शिकायत सरकार या राज्य सरकार द्वारा इस निमित्त सशक्त किसी अधिकारी को भेज सकता है। शिकायतकर्ता अपने शिकायत पत्र के साथ एक शपथ-पत्र /साक्ष्य भी देगा जिसकी जांच नामित अधिकारियों द्वारा उत्तर प्रदेश पंचायत राज जांच नियमावली 1997 के तहत जारी शासनादेश के मुताबिक निस्तारण किया जायेगा। बैठक में जिलाधिकारी ने विभागवार लंबित शिकायत पत्रों के निस्तारण की भी समीक्षा की। जिनके द्वारा अभी तक वर्ष 2019 के प्राप्त शिकायत पत्रों का निस्तारण नहीं हो सका था, उनके अविलंब निस्तारण का निर्देश दिया।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *