जिला जेल का अपराध निरोधक समिति ने किया निरीक्षण

जिला जेल का अपराध निरोधक समिति ने किया निरीक्षण

गाजीपुर। उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति लखनऊ के चेयरमैन डा. उमेश शर्मा के निर्देशानुसार सोमवार को प्रदेश संगठन सचिव संजय श्रीवास्तव व अपराध निरोधक समिति के सदस्यों ने जिला कारागार निरीक्षण किया। डिप्टी जेलर कमलचंद से जानकारी लिया तो उन्होंने बताया कि जेल में कुल 906 कैदी हैं, जिसमें 826 पुरुष व 32 महिला हैं। अल्प वयस्क 48 हैं। महिला बंदियों के साथ एक बच्चा निरुद्ध है। बताया कि सुबह के नाश्ते में कैदियों को ब्रेड चाय व दोपहर के भोजन में रोटी, चावल, अरहर की दाल, आलू-पालक की सब्जी दी गई। पैरोल से वापस आए कैदियों की संख्या पांच है। जिला जेल में 397 कैदी की क्षमता है, जिसके सापेक्ष 906 कैदी बंद है। बताया कि जेल के अंदर आने वाले लोगों की गहन चेकिंग करने व कोविड-19 का ध्यान देते हुए सभी को सैनिटाइज करके ही अंदर प्रवेश करने दिया जाता है। जेल में 30 सीसीटीवी कैमरे लगे है, सभी काम कर रह हैं। जेल की सबसे बड़ी समस्या बाउंड्रीवॉल 12 फीट का ही होना बताया कि जेल में 4 डिप्टी जेलर होने चाहिए, जबकि यहां तैनाती केवल 3 की है, वहीं 68 सिपाही तैनात होना चाहिए, जिसके सापेक्ष केवल 42 की नियुक्ति है। दीवाल व चारदीवारी की स्थिति जर्जर है, जिसके लिए कई बार पत्र लिखा जा चुका है। निरीक्षण टीम में उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति के प्रदेश संगठन सचिव संजय श्रीवास्तव के साथ जोन सचिव मयंक कुमार सिंह, जेल पर्यवेक्षक अभिषेक सिंह, शेरशाह, विशाल चौरसिया और संगठन सचिव अनुज अग्रवाल शामिल रहे। मालूम हो कि उत्तर प्रदेश अपराध निरोधक समिति जेल मैनुअल के अंतर्गत काम करती है। इसके मुख्य संरक्षक राज्यपाल होते हैं। यह समय-समय पर जेल, बाल सुधार गृह, वृद्धाश्रम आदि का निरीक्षण कर शासन को रिपोर्ट भेजती है।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *