एक बार फिर सुर्खियों में आया सिंह लाइफ केयर हास्पिटल, अस्पताल के कर्मचारी पर लगा महिला के साथ बलात्कार करने का आरोप

एक बार फिर सुर्खियों में आया सिंह लाइफ केयर हास्पिटल, अस्पताल के कर्मचारी पर लगा महिला के साथ बलात्कार करने का आरोप

गाजीपुर। एक बार फिर सिंह लाइफ केयर हास्पिटल एक कर्मचारी की गलत हरकत से सुर्खियों में आ गया है। बीते दिन सदर थाना कोतवाली क्षेत्र के जमानियां मोड़ के पास स्थित सिंह लाइफ केयर अस्पताल में भर्ती अंधऊ गांव की एक महिला के परिजनों ने अस्पताल के कर्मचारी पर छेड़खानी करने का आरोप लगाया है। इसे लेकर शनिवार की सुबह हो-हल्ला करते हुए गाजीपुर-मऊ मार्ग को जाम कर दिया गया। अस्पताल के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाने लगी। जहां सूचना पर पहुंचे पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने कार्रवाई का भरोसा दिलाते हुए लगभग तीन घंटे बाद किसी तरह लोगों को समझा-बुझाकर जाम समाप्त कराया। सुबह करीब नौ बजे सैकड़ों लोग हो-हल्ला करते हुए गाजीपुर-वाराणसी मार्ग पर जमानियां मोड़ के पास पहुंचे और सड़क को जाम कर नारेबाजी करने लगे। जाम होते ही मार्ग पर आवागमन ठप हो गया। दोनों तरफ वाहनों की लम्बी लाइन लग गई। जाम कर रहे लोगों का आरोप था कि दो दिन पूर्व सिंह लाइफ केयर हास्पिटल में भर्ती एक महिला के साथ अस्पताल के कर्मचारी ने छेड़खानी की है। उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। जाम की जानकारी होते ही सदर एसडीएम अनिरुद्ध प्रताप सिंह, एडीएम राजेश सिंह, एसपी सिटी गोपीनाथ सोनी, सदर सीओ ओजस्वी चावला, सदर कोतवाल विमल मिश्रा के साथ ही जंगीपुर, बिरनो और करंडा थाना की पुलिस मौके पर पहुंच गई।

अधिकारियों ने संबंधित के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद लगभग तीन घंटा बाद जाम समाप्त हुआ। पीड़ित महिला के परिवार वालों का आरोप था कि महिला को सांस लेने में दिक्कत होने पर जमानिया मोड़ के पास स्थित सिंह लाइफ केयर हास्पिटल में ले गए थे। जहां चिकित्सकों ने उसे आईसीयू में भर्ती किया था। 26 मार्च की शाम हास्पिटल से छुट्टी होने पर महिला को घर लाया गया। महिला ने परिजनों से बताया कि अस्पताल के एक कर्मचारी ने वार्ड में उसके साथ छेड़खानी की है। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक डा. ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि घटना की सूचना मिलने पर रात में ही सदर सीओ ओजस्वी चावला को अस्पताल भेजा गया था। उन्होंने अस्पताल में लगे सीसीटीवी फुटेज को देखा, लेकिन उसमें बहुत स्पष्ट रूप से कोई चीज नहीं दिखाई दी। फिर भी पीड़िता की तहरीर पर मुकदमा पंजीकृत कर आगे की कार्रवाई की जा रही है। एसपी ने कहा कि चक्का जाम कर लोगों ने धारा-144 का उल्लंघन किया है। उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। सदर कोतवाल विमल मिश्रा ने कहा कि पीड़ित महिला की तहरीर पर कर्मचारी और संचालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है। बतादें कि कुछ वर्षों पूर्व ऐसा ही मामला सिंह लाइफ केयर अस्पताल में हुआ था जिसके चलते अस्पताल में तोड़फोड़ व आगजनी हुई थी जिसके कारण कई महीनों तक बंद करवा दिया गया था।

 

पहले भी अस्पताल पर हो चुकी है कई घटनां

* 18 अप्रैल 2015 की रात सदर कोतवाली क्षेत्र के जमानिया मोड़ स्थित सिंह अस्पताल के सामने सड़क पर रेवतीपुर थाना क्षेत्र के पकड़ी निवासी राजेश यादव का शव मिला था।
* 19 अप्रैल को मृतक के पिता आनंदी यादव ने अस्पताल के चिकित्सक दंपती डा. राजेश सिंह, डा. अनुपमा सिंह सहित पांच लोगों के खिलाफ हत्या और लूट की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
* वीडियोग्राफी के बीच राजेश का पोस्टमार्टम हुआ था, रिपोर्ट में मौत से पूर्व 24 चोट के निशान मिले थे।
* आरोपी चिकित्सक दंपती की गिरफ्तारी की मांग को लेकर 23 अप्रैल को पकड़ी और गौरा गांव के पुरुष और महिलाओं ने सुहवल-गौरा मार्ग पर चक्काजाम किया था।
* घटना के पांचवें दिन 24 अप्रैल को चिकित्सक दंपती की गिरफ्तारी की मांग लेकर जमानिया मोड़ पर चल रहे चक्काजाम के दौरान एक महिला पर पुलिस द्वारा लाठी भांजने से नाराज लोगों ने अस्पताल में तोड़-फोड़ और आगजनी की थी। पुलिस पर जमकर पथराव किया था। भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस को प्लास्टिक की गोली और आंसू गैस छोड़नी पड़ी थी।
* 26 अप्रैल को पत्रकार वार्ता में तत्कालीन एसपी डा. उमेशचंद्र श्रीवास्तव ने राजेश हत्याकांड के मुख्य आरोपी चिकित्सक दंपती को क्लीन चिट दी थी। साथ ही एक आरोपी शाबिर की गिरफ्तारी की बात कहते हुए अन्य दो कर्मचारियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की बात कही थी।
* 2 मई को राजेश यादव हत्याकांड के मामले में प्रेसवार्ता कर पंचायती राजमंत्री कैलाश यादव ने इस मामले की सीबीसीआईडी से जांच कराने के साथ ही मृतक के परिवार को दस लाख रुपये आर्थिक मदद की बात कही थी।
* 30 मई 2015 को लखनऊ से आई फोरेंसिक और वाराणसी विधि विज्ञान प्रयोगशाला की टीम ने तीन घंटे तक अस्पताल के अंदर और बाहर राजेश का पुतला बनाकर गहनता से मामले की जांच की थी।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.