वंदना फेल, भाजपा से जिपं. अध्यक्ष पद के प्रत्याशी का सपना सिंह को मिला टिकट

वंदना फेल, भाजपा से जिपं. अध्यक्ष पद के प्रत्याशी का सपना सिंह को मिला टिकट
गाज़ीपुर। भारतीय जनता पार्टी की ओर से जिला पंचायत चुनाव को लेकर अध्यक्ष पद के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ. मुकेश सिंह की छोटी भाभी और एमएलसी विशाल सिंह चंचल की रिश्तेदार सपना सिंह को प्रत्याशी घोषित किया गया है। भाजपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए सैदपुर से निर्दल जिला पंचायत सदस्य सपना सिंह को पार्टी की सदस्यता दिलाने के लिए घंटे पेशोपेश बना रहा। आखिरकार अंत में नाटकीय ढंग से सपना को प्रत्याशी घोषित कर ही दिया गया। जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर जिले में सियासी का पारा चढ़ा हुआ है। खासकर भाजपा में टिकट को लेकर काफी उहापोह की स्थिति बनी हुई थी। राजनीतिक दिग्गजों का ध्यान इस बात पर टिकी थी कि भाजपा किसे प्रत्याशी बनायेगा। पहले वंदना यादव का नाम सामने आ रहा था, फिर अचानक सपना सिंह को प्रत्याशी घोषित किये जाने से राजनीतिक महकमा में हड़कंप मच गया है। इस पद के प्रत्याशी कोलेकर राजनीतिक दलों में गहमागहमी चल ही रही थी कि गुरुवार को अचानक सपना सिंह भाजपा कार्यालय पहुंच गयीं। जहां भाजपा जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने उन्हें पहले पार्टी की सदस्यता ग्रहण करायी। इसके बाद लिखित रूप से भाजपा के जिला प्रभारी और भाजपा प्रदेश इकाई के बड़े नेता कौशलेंद्र सिंह पटेल ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर उन्हें जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए प्रत्याशी घोषित कर दिया गया। नाम उजागर होते ही तमाम कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय पहुंच गये और सपना सिंह को फूलमाला से भव्य स्वागत किया। सपना सिंह के भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने पर सियासी जगत में हलचल अब और तेज हो गई है। मालूम हो कि 26 जून को जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा में दावेदारी को लेकर पेशोपेश बनी हुई थी। इसके चलते कई बार शक्ति परीक्षण लखनऊ स्थित भाजपा के प्रदेश कार्यालय तक चला। जहां अंत में पार्टी की ओर से सपना सिंह के नाम पर मुहर लगा दी गयी। भाजपा जिला इकाई ने पहले मात्र एक नाम वंदना यादव का ही भेजा था जो पूर्व सांसद और वर्तमान एलजी जम्मू कश्मीर के काफी करीबी माने जाते थे, लेकिन वहीं निर्दल प्रत्याशी के तौर पर सपना सिंह ने जहां अपने निकटतम सपा उम्मीदवार श्रीमती अंजना सिंह जो पूर्व सपा सांसद राधेमोहन सिंह की पत्नी थी, उनको हराया था बल्कि भाजपा प्रत्याशी की जमानत तक जब्त करवा चुकी हैं और अब कई शक्ति परीक्षण और अग्निपरीक्षा पार करते हुए आज वंदना यादव जो उम्मीदवार की सशक्त दावेदार थी उनका पत्ता साफ करके आज भाजपा की प्रत्याशी घोषित कर दी गयी। सपा ने जिलापंचायत अध्यक्ष सामान्य महिला सीट से ज़मानियाँ क्षेत्र से जीत कर आई कुसुमलता यादव जो पिछड़े वर्ग से आती हैं, उनको प्रत्याशी घोषित कर रखा है। बसपा ने अभी तक पत्ता नहीं खोला है, सूत्रों की मानें तो बसपा के पास कुल एक दर्जन वोटर हैं और माना जा रहा है कि उनसे ये दोनों ही प्रत्याशी सम्पर्क में हैं। चूंकि जिला पंचायत अध्यक्ष पद सामान्य महिला के लिए आरक्षित है। कुल 67 सीटों में से भाजपा के पास छह सदस्य हैं। सपा के पास 13 व बसपा के पास लगभग 10 जिला पंचायत सदस्य हैं। बाकी या तो दलों के बागी हैं या फिर निर्दल सदस्य है। दोनों ही दलों के पास 34 का जादुई आंकड़ा नहीं है। अब भाजपा व सपा के प्रत्याशियों की घोषणा के साथ ही जोड़तोड़ पर फाइनल मुहर की जुगत शुरू हो गई है। जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर भाजपा व सपा का प्रत्याशी घोषित होने के बाद दोनों दलों के कद्दावर नेताओं ने जोड़तोड़ शुरू कर दी है। किसी भी दल के पास 21 जिला पंचायत सदस्य नहीं है। ऐसे में 10 निर्दल सदस्य भी अध्यक्ष बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाएंगे। 40 सीटों पर राजनीतिक दलों के समर्थित व निर्दल उम्मीदवारों की स्थिति स्पष्ट है। अब जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा करने के लिए जोर आजमाइश अंतिम दौर में हैं। चुनाव में अप्रत्याशित हार मिलने के बाद भी भाजपा के लोग अपना अध्यक्ष बनाने के लिए गुणा-भाग कर रहे थे। आरती तिवारी का नाम घोषित होने के बाद अटकलों पर विराम लग गया है। इस मौके पर महामंत्री ओमप्रकाश राय, पूर्व जिलाध्यक्ष वृजेंद्र राय, अखिलेश सिंह, राघवेंद्र सिंह, अच्छेलाल गुप्ता, डा. मुकेश सिंह, पंकज सिंह चंचल, शैलेंद्र सिंह, मोहित श्रीवास्तव, देवांशु देव श्रीवास्तव, राजन सिंह, बच्चा तिवारी, बाबी सिंह, ब्रिज बहादुर सिंह( लाला ) आदि मौजूद थे।
                 

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *