अस्तित्व की लड़ाई के लिए संगिठत होना जरूरी : कुंवर अवनीश सिंह

अस्तित्व की लड़ाई के लिए संगिठत होना जरूरी : कुंवर अवनीश सिंह

– ग्राम बरूइन स्थित हरि आश्नम जूनियर हाईस्कूल के प्रांगण आयोजित किया गया क्षत्रिय महापंचायत

 

गाजीपर। जमानियां क्षेत्र के ग्राम बरूइन स्थित हरि आश्नम जूनियर हाईस्कूल के प्रांगण में रविवार को क्षत्रिय महापंचायत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत मुख्य अतिथि व आमंत्रित अथितियों ने भगवान श्रीराम व महाराणा प्रताप के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों को साफा बांध कर व समाज में विशिष्ट योगदान देने वाले लोगों को अंगवस्त्रम व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि राष्ट्रीय अध्यक्ष कुंवर अवनीश सिंह ने कहा कि दुनिया की कोई भी अस्तित्व की लड़ाई संगठन द्वारा ही लड़ी जा सकती है। अनुशासित व मजबूत संगठन ही बदलाव ला सकती है। प्रभु श्रीराम को भी लडाई लड़ने के लिए कमजोर, शोसित लोगों का संगठन बनाना पड़ा। विश्वास से ही संगठन मजबूत होता है। युवा जिस दिन संगठित हो जायेगा, वही दिन वह अपने अधिकार को प्राप्त कर लेगा। संख्या बल से अधिकार नहीं मिल सकता है, बल्कि मजबूत इच्छा शक्ति से प्राप्त हो सकता है। देश में जिसका जितना योगदान उतना अधिकार मिलना चाहिए। जिसके बाजुओं में ताकत होती है, वही देश की रक्षा कर सकता है। हमारी लड़ाई एक होने की नही बल्कि स्वावलम्बी बनने की है। आज हमारे समाज के महापुरुषों को छिनने का घिनौना साजिश किया जा रहा है, हमे सजग रहना होगा। आज हमें सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक रूप से मजबूत होना पड़ेगा तभी हम अपने हक को प्राप्त कर सकते है। प्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि जब-जब देश में अन्याय हुआ है तब-तब क्षत्रिय समाज को आवाज उठाना पड़ा है। सरकार वोट की राजनीत करके एसटी, एससी एक्ट को मजबूत कर हमारे समाज को कमजोर कर रही है। एकता स्थापित करके हमलोगों को महाराणा बनना होगा तभी देश की विसंगतिया दूर हो सकती है। पूर्व मंत्री प्रतिनिधि मन्नू सिंह ने कहा कि गांव, गरीब व समाज के कमजोर वर्गों की आवाज उठाने वाले व सबको साथ ले कर चलने वाले वर्ग को क्षत्रिय कहते हैं। क्षत्रिय कोई जाति नहीं बल्कि सभी वर्गों की रक्षा का दायित्व उसके कंधे पर होता है। क्षत्रिय समाज आज राजनीत में कमजोर होता जा रहा है। उसका कारण है एकता की कमी। एक दूसरे की कमियों को भूला कर एकता स्थापित करने की आवश्यक्ता है। अपने गौरवशाली इतिहास को स्मरण कर महापुरूषों के पद चिन्हों पर चल कर तथा बड़े बुर्जुगों के अनुभव व युवाओं की शक्ति से ही नव भारत का निर्माण हो सकता है। छोटी सोच व आपसी वैमनस्यता से प्रगति सम्भव नहीं हो सकती है। शराब को त्यागकर क्रोध, नफरत व ईष्या पीने से ही समाज में प्रतिभा निखर सकती है। जिलाध्यक्ष राजकुमार ने कहा कि क्षत्रिय समाज को संगठित करने में युवाओं का विशेष योगदान है। जनपद में जहां भी कमजोर लोगों को पीड़ा हुई, संगठन वहां पहुंचकर न्याय दिलाने का कार्य किया। याचना करने से कुछ हासिल नहीं हो सकता, बल्कि संघर्ष करने से मिल सकता है। एकता स्थापित करने से ही हम बड़े पंचायत में पहुंचकर अपनी बात मनवा सकते हैं। इस दौरान राष्ट्रीय संगठन मंत्री विक्रान्त सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दुर्गेश सिंह, राष्ट्रीय सचिव अखण्ड सिंह, प्रदेश सचिव आनन्द सिंह, मण्डल उपाध्यक्ष भोला सिंह, प्रदेश प्रमुख महामंत्री नकुल रघुवंशी, प्रदेश उपाध्यक्ष जनमेजय सिंह, राष्ट्रीय प्रवक्ता अभय सिंह, प्रदेश महामंत्री टिंकल सिंह, प्रदेश महासचिव सर्वेश सिंह, पूर्व ब्लाक प्रमुख बलवन्त सिंह, प्रबन्धक उपेन्द्र सिंह शिवजी, रंगबहादुर सिंह, संसार सिंह, सुशील सिंह, अरविन्द सिंह, बबलू सिंह, श्यामनरायण सिंह, रणवीर सिंह, सुरेन्द्र सिंह, अमरेन्द्र सिंह पिन्टू, संतोष सिंह पिन्टू, धर्मेन्द्र सिंह, सोनू सिंह, मानवेन्द्र सिंह, त्रिलोकी सिंह, नयन प्रकाश सिंह, अजय सिंह, अमरनाथ सिंह, अनिल सिंह, सुधीर सिंह, श्रीराम सिंह, मनीष सिंह, सोहन सिंह, प्रिंस सिंह, आलोक सिंह, अमित सिंह, सुभम सिंह, रोहित सिंह, टाइगर सिंह, चन्दन सिंह, निहाल सिंह आदि मौजूद रहे। अध्यक्षता कैलाश सिंह व संचालन राकेश सिंह मन्टू ने किया।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *