21.61 एकड़ भूमि में स्थापित मेडिकल कालेज का प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल लोकार्पण

21.61 एकड़ भूमि में स्थापित मेडिकल कालेज का प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल लोकार्पण

– 11.97 एकड़ में फैला प्रशिक्षण चिकित्सालय भी हुआ लोकार्पित

– सिद्धार्थनगर से प्रदेश के नौ जनपदों में नवनिर्मित मेडिकल कालेजों का पीएम ने किया लोकार्पण

गाजीपुर। जनपद के पिछड़ेपन को दूर करने तथा राष्ट्रीय पटल पर स्थापित करने का जो प्रयास पूर्व केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा द्वारा किया गया था, वह भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व मे आज भी अलौकिक हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सोमवार को जनपद सिद्धार्थनगर से प्रदेश के नौ जनपदों में नवनिर्मित मेडिकल कालेजों के लोकार्पण क्रम में 21.61 एकड़ भूमि में स्थापित महर्षि विश्वामित्र स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय गाजीपुर तथा वहां से मात्र 2 किलोमीटर दूर 11.97 एकड़ में फैला प्रशिक्षण चिकित्सालय का लोकार्पण भी प्रधानमंत्री जी द्वारा बर्चुवल किया गया। गाजीपुर जनपद के विकास मानक को स्थापित करते इस मेडिकल कालेज से जिले को बड़ी सम्भावनाओं का सौगात मिली है। जहां इससे जनपद में रोजी रोजगार को अवसर मिलेगा। वहीं बड़े शहरों मे इलाज के दौरान नाजायज खर्चों पर रोक लगेगी, तथा देश चिकित्सकों की कमी को पूर्ण करेगा। मेडिकल कॉलेज में प्रशासनिक भवन-जिसमें प्रधानाचार्य आवास, कॉलेज कौंसिल कक्ष, लाइब्रेरी और संकाय कक्ष होंगे। महाविद्यालय के सुसज्जित लाइब्रेरी में 1700 से अधिक पुस्तकें, 15 से अधिक प्रस्तावित पत्रिकाएं और ई-लर्निंग सामग्री उपलब्ध होगी। शैक्षणिक भवन-यह एक पांच मंजिला इमारत है। इसमें विच्छेदन कक्ष, प्रयोगशालायें, प्रदर्शन कक्ष, संग्रहालय आदि हैं, जो कि एनाटॉमी फिजियालॉजी, बायो केमिस्ट्री, कम्युनिटी मेडिसिन, फार्माकोलॉजी, माइकोबायोलॉजी, पैथालाजी एवं फोरेंसिक मेडिसिन से संबंधित शिक्षा प्रदान की जाएगी। लेक्चर थियेटर कंपलेक्स-इसमें चार लेक्चर थियेटर उपलब्ध होंगे। हर एक लेक्चर थिएटर में 120 छात्र-छात्राओं के बैठने की व्यवस्था होगी। यह लेक्चर थिएटर नवीनतम ऑडियो विजुअल तकनीक से सुसज्जित होंगे। प्रशिक्षण चिकित्सालय-यह चिकित्सालय 300 शैय्या युक्त चिकित्सालय है तथा प्रमुख उन्नत प्रौद्योगिकी से सुसज्जित है ।यह एक सात मंजिला भवन है, जिसमें आघात एवं आपातकालीन सुविधाएं उपलब्ध है। परिसर छात्रावास-छात्र छात्राओं के लिए अलग-अलग छात्रावास में पावर बैकअप की सुविधा उपलब्ध होगी। इंडोर खेल जैसे टीटी, कैरम, चेश आदि की सुविधाएं छात्र-छात्राओं के लिए उपलब्ध रहेगी। एडमिशन एंड एफिलिएशंस-महर्षि विश्वामित्र स्वशासी चिकित्सा महाविद्यालय गाजीपुर अटल बिहारी वाजपेई विश्वविद्यालय लखनऊ से संबंध होगा तथा इसमें वार्षिक 100 छात्रों को निट (यूजी) के माध्यम से प्रवेश दिया जाएगा। मेडिकल कालेज गाजीपुर मे कुल 46 संकाय सदस्य तथा 4 कार्यालय सहायक है। इस मेडिकल कालेज का शिलान्याश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 29 दिसम्बर 2018 को इसी प्रांगण मैदान से किया था। और उन्होंने बड़े विश्वास के साथ कहा था की भारतीय जनता पार्टी की सरकार जिस परियोजना का शिलान्यास करती है, उसका लोकार्पण भी वही करती है। आज इस लोकार्पण अवसर पर मेडिकल कालेज के सभाकक्ष मे उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, जिले के प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला, गाजीपुर सदर विधायक एवं उत्तर प्रदेश सरकार में सहकारिता राज्य मंत्री डॉक्टर संगीता बलवंत, विधान परिषद सदस्य विशाल सिंह चंचल, विधायक सुनीता सिंह, अलका राय, जिला पंचायत अध्यक्ष सपना सिंह, नगर पालिका परिषद अध्यक्ष सरिता अग्रवाल, भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह, क्षेत्रीय उपाध्यक्ष सरोज कुशवाहा, विजेंदर राय, महामंत्री ओमप्रकाश राय, प्रवीण सिंह, अच्छे लाल गुप्ता, रमेश सिंह पप्पू संकठा मिश्रा, योगेश सिंह, रूद्र प्रताप सिंह, साधना राय, जिला मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा,शैलेश राम सहित भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं जनपद के सम्मानित पत्रकार, जिला अधिकारी मंगला प्रसाद सिंह, पुलिस अधीक्षक आरबी सिंह, महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ राजेश सिंह सहित सामान्य जन उपस्थित रहे।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.