बस की चपेट में आने से अधेड़ की मौत

बस की चपेट में आने से अधेड़ की मौत

– नोनहरा थाना क्षेत्र के खालिसपुर-तालिया चट्टी पर दवा लेने बाइक से गया था अधेड़

– घटना के बाद बस चालक बस छोड़ मौके से हुआ फरार, ग्रामीणों ने बस को किया क्षतिग्रस्त

गाजीपुर। नोनहरा थाना क्षेत्र में राष्ट्रीय राजमार्ग 31 पर गुरुवार को एक प्राइवेट बस की चपेट में आकर अधेड़ की मौत हो गयी। घटना के बाद बस चालक थोड़ी दूर पर बस खड़ी कर फरार हो गया। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने बस में सवार यात्रियों को बाहर उतारने के बाद पूरे बस क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद मृतक के परिजनों समेत ग्रामीण ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर चक्का जाम कर दिया। जानकारी होते ही मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स पहुंच गयी। इधर सूचना पर सीओ कासिमाबाद व सदर तहसीलदार भी घटना स्थल पर पहुंच गये। तहसीलदार सदर ने आक्रोशित परिजनों व ग्रामीणों को किसी तरह समझा-बुझाकर करीब दो घंटे बाद चक्का जाम समाप्त कराया। इसके बाद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। जानकारी के अनुसार नोनहरा थाना क्षेत्र के खालिसपुर-तालिया चट्टी पर गुरुवार की सुबह 10:30 बजे बवाड़ा गांव निवासी 52 वर्षीय सोमनाथ शर्मा टीवीएस सुजुकी (बाइक) से दवा लेने के लिए तलिया चट्टी पर आया आये थे। जहां व दवा लेने के लिए बाइक से सड़क पार कर दुकान की ओर जा रहे थे, तभी सिकंदरपुर-बलिया से रसड़ा-कासिमाबाद-कठवामोड़ होते हुए वाराणसी जा रही तेज गति निजी बस शिवगंगा की चपेट में आ गये। इससे जहां बाइक क्षतिग्रस्त हो गयी, तो वहीं बस की चपेट में अधेड़ सोमनाथ शर्मा की मौके पर ही मौत हो गयी। घटना के बाद तुरंत मौके पर भीड़ जुट गयी। इधर बस चालक बस को कुछ दूर पर खड़ी कर मौके से फरार हो गया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना तत्काल परिजनों को दी। परिजन रोते-बिलखते मौके पर पहुंच गये। इसके बाद चट्टी पर मौजूद ग्रामीणों ने बस को घेर लिया और उसमें सवार यात्रियों को उतारने के बाद बस को ईंट-पत्थर से शीशा फोड़कर उसे क्षतिग्रस्त कर दिया। सहमे बस के यात्री किसी तरह वहां से हट-बढ़कर दूसरे वाहन से अपने गन्तव्य के लिए निकल गये। फिर ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग तलिया पर अधेड़ के शव को रखकर परिजनों के साथ मुआवजे की मांग को लेकर चक्का जाम शुरू कर दिये। सूचना पाने के बाद थानाध्यक्ष नोनाहरा और चौकी इंचार्ज कठवामोड़ प्रदीप सिंह मय फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंच गये। इसके बाद बस को कब्जे में ले लिया। फिर उन्होंने चक्का जाम हटवाने की कोशिश की, लेकिन ग्रामीण एसडीएम सदर को मौके पर बुलाने और मुआवजे की मांग को लेकर अड़े रहे। एसडीएम के कहने पर तहसीलदार सदर मौके पर आये जहां मांगों को पूरा करने का आश्वासन देते हुए आक्रोशित ग्रामीणों को समझाकर चक्का जाम समाप्त कराया। यह जाम सुबह 10:30 बजे से लेकर 12:40 बजे तक चलता रहा। इसके चलते राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गयी थी, जिससे लोगों को परेशानी उठानी पड़ी। चक्का जाम समाप्त होने के बाद नोनहरा पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.