बाल दिवस पर निकाली गयी प्रभात फेरी

बाल दिवस पर निकाली गयी प्रभात फेरी

– विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं व अध्यापकों ने किया प्रतिभाग

– जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की पूर्णकालिक सचिव ने झंडी दिखाकर किया रवाना

गाजीपुर। उप्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देशानुसार आजादी के 75वें वर्ष पर आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम अन्तर्गत रविवार को आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के समापन पर व भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू का जन्म दिवस बाल दिवस के रूप में मनाया गया। इसे लेकर सुबह प्रभात फेरी निकली गयी। वहीं जनपद व तहसील स्तर पर विविध कार्यक्रम भी आयोजित किये गये। प्रभात फेरी में शामिल स्कूली छात्र-छात्राएं बाल अधिकारों व साक्षरता अभियान से संबंधित नारे लिखे तख्तियां लेकर चल रहे थे। पं. जवाहर लाल नेहरू को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए विद्यालय के छात्र-छात्राओं को बाल दिवस पर बिस्कुट भी वितरण किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की पूर्णकालिक सचिव सुश्री कामायनी दूबे की ओर से प्रभात फेरी को जनपद न्यायालय के मुख्य द्वार से रवाना किया गया। इस मौके पर उच्च प्राथमिक विद्यालय प्रसादपुर, उच्च प्राथमिक विद्यालय मिश्रवलिया, उच्च प्राथमिक विद्यालय बीकापुर, उप्रा. विद्यालय रायगंज, उप्रा विद्यालय महाराजगंज, उप्रा विद्यालय फुल्लनपुर के अध्यापक सहित छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। इसके अलावा राजकीय बालिका इण्टर कालेज गाजीपुर, राजकीय सिटी इण्टर कालेज गाजीपुर, एमएएच इण्टर कालेज गाजीपुर, आदर्श इण्टर कालेज गाजीपुर के छात्र-छात्राओं व अध्यापकों सहित बाल विकास व पुष्टाहार विभाग की ऑगनवाड़ी कार्यकर्त्रियों ने भी प्रतिभाग किया। जनपद के समस्त तहसीलों सैदपुर, जमानियां, जखनियां, मुहम्मदाबाद, कासिमाबाद, सदर, सेवराई के विद्यालयों में बाल दिवस पर बच्चो ने प्रभात फेरी व साईकिल रैली निकाली। कामायनी दूबे ने बताया कि आजादी का अमृत महोत्सव 2 अक्टूबर से 14 नवंबर तक मनाया गया। इसके समापन पर प्रभात फेरी के आयोजन के माध्यम से जनजागरूकता कार्यक्रम चलाया गया। इसका उद्देश्य आम जनता को सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से अवगत कराने के साथ ही जनसामान्य को विधिक रूप से साक्षर बनाना, स्वलम्बन की दिशा में आगे बढ़ाना रहा है। कहा कि पीड़ित जनसामान्य अपनी चुप्पी तोड़ें और अपराधियों को सजा दिलाने के लिए आगे आयें। उन्होंने अपने अधिकार व कर्तव्यों के प्रति जागरूक बनें। महिलाओं की सामाजिक सुरक्षा व सशक्त बनाने के लिए विधिक योजनाएं, हेल्पलाईन नम्बर व महिलाओं की सामाजिक, सुरक्षा व सशक्त बनाने के लिए विधिक योजनाओं को बताया।

adminpurvanchal