गलत ढंग से पढ़ाया जा रहा देश का इतिहास : डा. महेन्द्र प्रताप सिंह

गलत ढंग से पढ़ाया जा रहा देश का इतिहास : डा. महेन्द्र प्रताप सिंह

– कहा : देश के रणबांकुरों की नहीं पढ़ायी जा रही वीरगाथा

– अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत भारत माता की झांकी का किया गया शुभारंभ

गाजीपुर। आजादी के 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में मनाये जा रहे अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत अमृत महोत्सव समिति खण्ड देवकली की ओर से गुरुवार को भारत माता झांकी का शुभारंभ किया गया। भारत माता के झांकी की शुरुवात बरहपुर ग्रामसभा के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. बाबू भोला सिंह के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। जहां भारत माता के चित्र पर पुष्प व समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। इसके मुख्य वक्ता डा. महेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि इस देश के रणबाकुरों ने अपनी जान की बाजी लगाकर इस देश को आज़ाद कराया। ऐसे वीर सपूतों और स्वतन्त्रता सेनानियों को पूरा देश नमन करता है। इस देश का गौरवशाली इतिहास रहा है। यहां की भारतीय संस्कृति अपनी एक अलग पहचान रखती है। यह राम औऱ कृष्ण की धरती है। जहां अनेक वीरों ने जन्म लिया। मगर अफसोस की हम अपनी भारतीय मूल संस्कृति को भूलते जा रहे हैं। यही नहीं आजादी की लड़ाई में यहां के वीर क्रांतिकारियों ने मुगलों और अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए, लेकिन आज हमें जो इतिहास पढ़ाया जा रहा है, वह हमारा मूल इतिहास है ही नहीं। आज हमें पढ़ाया जा रहा है कि अकबर महान था, लेकिन महाराणा प्रताप सिंह ने अकबर के छक्के छुड़ा दिए ये कोई नहीं बता रहा। सच यह है कि इतिहास की सच्चाई को हटा कर जो इतिहास हमे पढ़ाया जा रहा है, वह हमारे ऊपर जबरदस्ती थोपी गयी है। अगर भारत का इतिहास पढ़ना है, तो मुगलो और अंग्रेजों के पहले का इतिहास उठाकर पढ़ें, तब समझ में आएगा कि वास्तव में भारत का इतिहास क्या था। बहुत से ऐसे वीर क्रांतिकारी थे, जिन्होंने देश की आज़ादी में अपना सबकुछ लुटा दिया। मगर उन क्रांतिकारी वीरों के बलिदान को नहीं बताया गया, बल्कि हमसे छिपाया गया। आज इस अमृत महोत्सव कार्यक्रम के माध्यम से उन सभी गुमनाम क्रांतिकारियों के योगदान को हम जन-जन तक पहुंचाने का किया जाएगा। लम्बे समय तक मुगलों ने और अंग्रेजों ने हम पर शासन कर हमारी आस्था को नष्ट करने का काम किया है औऱ जबरदस्ती अपनी संस्कृति को हम पर थोपने का काम किया है, उसे दूर करने की जरूरत है। हमारी मूल संस्कृति और जो हमारा मूल इतिहास है, उसे जानने की जरूरत है। तभी हमारा भारत एक समृद्ध और शक्तिशाली भारत होगा। कार्यक्रम में कमलेश, विजय यादव, शरण लाल श्रीवास्तव, प्रशांत सिंह आदि ने विचार व्यक्त किया। इस दौरान फैलू यादव, सत्येन्द्र कुमार सिंह, तेरसू यादव, ऋषिकेश आदि मौजूद रहे। अध्यक्षता टीएन सिंह व संचालन रविन्द्र श्रीवास्तव ने किया।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *