शिक्षा माफिया की बेनामी सम्पत्ति डीएम के आदेश पर कुर्क

शिक्षा माफिया की बेनामी सम्पत्ति डीएम के आदेश पर कुर्क

– एमटी सोसल वेलफेयर ट्रस्ट फतेउल्लाहपुर के नाम दर्ज थी यह संपत्ति

– आराजी नं. 483 में 3098 हेक्टेयर में तैयार था अर्द्धनिर्मित भवन

– जिले भर में अलग-अलग नामों से कई विद्यालयों का शिक्षा माफिया करता है संचालन

गाजीपुर। फतेउल्लाहपुर स्थित शिक्षा माफिया महेन्द सिंह कुशवाहा पुत्र बंशी कुशवाहा निवासी रघुनाथपुर छावनी लाइन की 3098 हेक्टेयर अर्द्धनिर्मित भवन आराजी नं. 483 की बेनामी सम्पत्ति जिलाधिकारी के आदेश पर डुगडुगी बजाकर कुर्क की गयी। यह संपत्ति एमटी सोसल वेलफेयर ट्रस्ट फतेउल्लाहपुर के नाम दर्ज थी। महेन्द्र सिंह कुशवाहा छावनी लाइन में इण्टर कालेज आरटीआई कालेज व इंग्लिश मीडियम कालेज संचालित करते हैं। इनके विरूद्ध शहर कोतवाली गाजीपुर में 1775/16 नकल कराने के मामले में मुकदमा दर्ज है। शिक्षा जगत का यह माफिया देखते ही देखते फर्श से अर्श तक पहुंच गया। नकल कराने के मामले में जिले में इसकी कोई शानी नहीं है। यह शिक्षा माफिया जिले भर में अलग-अलग नामों से कई विद्यालयों का संचालन करता है। सेंटर अपने विद्यालय में लेकर नकल कराने व अवैध तरीके से छात्रों से धन उगाही का मास्टर माइंड है। इस कार्रवाई में लगे सदर उपजिलाधिकारी अनिरुद्ध प्रताप सिंह ने बताया कि शिक्षा माफिया महेन्द्र कुशवाहा के खिलाफ सामूहिक नकल कराने, पर्चा आउट करने आदि के संबंध में कोतवाली में 1775/16 गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है। जिलाधिकारी के आदेश के अनुसार गैंगस्टर एक्ट की धारा के तहत कुर्की की कार्रवाई की गयी। इसकी कीमत करीब 4 करोड़ 80 लाख रुपये है, जिसे रविवार को कुर्क किया गया। इस दौरान तहसीलदार अभिषेक कुमार, नायब तहसीलदार आशीष सिंह, राजस्व निरीक्षक शेषमणि, क्षेत्रीय लेखपाल चिन्तामणि, सीओ सदर ओजस्वी चावला, कोतवाल सदर दीपेन्द्र सिंह, थानाध्यक्ष नन्दगंज धीरेन्द्र प्रताप सिंह, कांस्टेबल अनिरुद्ध दुबे सहित महिला कांस्टेबल व अन्य पुलिस कर्मी मौजूद रहीं।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.