मुख्तार के करीबी महेंद्र जायसवाल की गोली मारकर नृशंस हत्या

मुख्तार के करीबी महेंद्र जायसवाल की गोली मारकर नृशंस हत्या

गाजीपुर। लखनऊ में कृष्णानगर के विजयनगर में रविवार देर शाम बाइक सवार दो बदमाशों ने जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के गुर्गे व ठेकेदार महेंद्र जायसवाल की गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक महेंद्र गाजीपुर के सदर कोतवाली के नवाबगंज का निवासी था। करीब दो दशक से वह लखनऊ में ही रहकर ठेका-पट्टा करता था। मौत की सूचना मिलने पर परिजन लखनऊ के लिए रवाना हो गए। नगर के नवाबगंज निवासी महेंद्र जायसवाल काफी हिम्मती था। उसे ड्राइविंग का शौक था। करीब साढ़े तीन दशक पहले वह जावा बाइक रखा था, जिसको पूरी तरह से काले रंग से रंगवा रखा था और उस पर कोबरा लिखा था। इसी बाइक से महेंद्र चलता था, जो लोगों के आकर्षण का केंद्र था। करीब 18-19 वर्ष की उम्र में पैसे के लेन-देन में अपने ही दोस्त को चाकू मारकर घायल कर दिया था। बाद में किसी के माध्यम से महेंद्र बाहुबली विधायक मुख्तार से जुड़ गया था और उनके काफिला में चलने लगा था। करीब ढाई दशक पहले गाजीपुर शहर में एडिशनल एसपी उदय शंकर जायसवाल द्वारा लंका पर हुई क्रॉस फायरिंग के दौरान महेंद्र मुख्तार अंसारी के साथ था और पंक्चर जिप्सी से उन्हें सकुशल मौके से लेकर फरार हो गया था। इसके बाद मुख्तार का हिम्मती और विश्वासपात्र चालक और करीबी हो गया था। इसके बाद महेंद्र मुख्तार के नाम का सिक्का चलाते हुए उनके ठेका-पट्टा का काम देखने लगा था। महेंद्र के हिम्मती तेवर से किसी अन्य ठेकेदार को ठेका लेने में एक बार सोचना पड़ता था। जब तक मुख्तार अंसारी गाजीपुर जेल में थे, तब तक महेंद्र भी जिले में था। यहां की जेल से मुख्तार जाने के बाद महेंद्र ने भी लखनऊ में अपना ठिकाना बना लिया था और वही पर ठेका-पट्टी का कार्य करता था। पिछले वर्ष मुख्तार अंसारी आईएस-191 गैंग का सक्रिय सदस्य महेंद्र जायसवाल का गोड़ा देहाती स्थित दो मकानों को प्रशासन को कुर्क करने की कार्रवाई की थी। इसके खिलाफ सदर कोतवाली में कई आपराधिक मामले दर्ज है। उसकी हत्या की खबर मिलते ही पत्नी सहित परिवार के अन्य सदस्य लखनऊ के लिए रवाना हो गए। नगरवासियों में महेंद्र की हत्या की चर्चा होती रही।

गाजीपुर में होगा महेंद्र जायसवाल का अंतिम संस्कार

गाजीपुर। लखनऊ में कृष्णानगर के विजयनगर में रविवार की देर शाम बाइक सवार दो बदमाशों द्वारा गोली मारकर महेंद्र जायसवाल की हत्या की खबर मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया। परिजन लखनऊ के लिए रवाना हो गए। मालूम हो कि महेंद्र की माता सुधामी देवी का निधन हो गया है। जबकि पिता रामजी प्रसाद जिंदा है। महेंद्र के चार पुत्र हैं। एक लखनऊ में रहता है और तीन यहां पर रहते हैं। परिजनों ने बताया कि पोस्टमार्टम होने के बाद शव को लखनऊ से गाजीपुर लाया जाएगा। यही पर अंतिम संस्कार होगा।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.