जनसंख्या समाधान यात्रा पर जमकर बरसे ग्रामीण, काफिले की गाड़ियों संग फोड़े यात्रियों के सिर

जनसंख्या समाधान यात्रा पर जमकर बरसे ग्रामीण, काफिले की गाड़ियों संग फोड़े यात्रियों के सिर

गाजीपुर। जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर जनसँख्या समाधान यात्रा आज चंदौली जनपद होते हुए जनपद में प्रवेश की यह यात्रा प्रदेश की कुल 66 जिलों से होकर गुजरेगी। यात्रा का मुख्य एजेंडा यह है कि देश में किसी को भी आठ-आठ बच्चे पैदा करने की कतई इजाजत नहीं दी जायेगी। प्रदेश के 51 जिलों से होते हुए यात्रा आज सुबह जैसे ही सुहवल थाना अंतर्गत कालूपुर चट्टी पर पहुंची की जाम लग गया। यात्रा में एक बड़े रथ व 4 बड़े ट्रको समेत कई लग्जरी वाहन चल रहे थे। जाम की स्थिति में ग्रामीणों ने यात्रा को चट्टी से आगे बढ़ाने को बोला जो यात्रियों को नागवार गुजरी। गुस्साए यात्रियों ने एक स्थानीय ग्रामीण को जमकर पीट दिया। यात्रियों द्वारा ग्रामीण के पीटे जाने की खबर मिलते ही सैकड़ो की तादात में ग्रामीणों ने चट्टी को घेर लिया और यात्रियों को विधिवत दौड़ा दौड़ा पीटा। सूचना पर पुलिस अधीक्षक अपने दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे पर गिरफ़्तारी की मांग को लेकर यात्रियों ने सड़क पर बैठ गए। शाम तक पूर्व मंत्री ओपी सिंह, सपा के ओपी यादव समेत अखिलेश यादव की गिरफ़्तारी की मांग करते रहे।

घटना के बारे में बताया जा रहा कि जनसंख्या नियंत्रण को लेकर जनसंख्या समाधान यात्रा अपने लाव लश्कर के साथ जैसे ही सुहवल थाने के कालूपुर चट्टी पर पहुंची कि जाम लग गया। ग्रामीणों ने यात्रियों से बेतरकीब खड़े वाहनों को आगे बढ़ाने को कहा, जिसपर यात्री ग्रामीणों से उलझ गए और बहस आगे बढ़ने पर एक स्थानीय युवक को पीटने लगे। युवक के पीटे जाने कि खबर फैलते ही सैकड़ो कि तादात में ग्रामीणों ने यात्रा को घेर लिया और दौड़ा दौड़ा के सभी को बल भर पीटा। चुकि यात्रा का एक विशेष दल से जुड़े होने के कारण पुलिस प्रशासन के हाथ पाँव फूल गए और कप्तान स्वयं मौके पर पहुंच गए, तब तक यात्री बवाल काटते हुए सड़क पर ही बैठ गए और ग्रामीणों के अलावा पूर्व मंत्री ओपी सिंह, सपा के ओपी यादव समेत अखिलेश यादव की गिरफ़्तारी कि मांग करने लगे। पुलिस ने भी दबाव में आकर एक पूर्व प्रधान समेत कई लोगो को कोतवाली में बैठा लिया है। खबर लिखे जाने तक दोनों ओर से अपनी अपनी एफआईआर दर्ज करने के लिए दोनों पक्षों के लोग जुटे थे। यात्रियों द्वारा मामले को सियासी जामा पहनाने की भरपूर कोशिश की गयी पर ग्रामीणों के आगे उनकी एक न चली।

rajeev-rai-ghazipur

adminpurvanchal