संप्रेक्षण गृह के बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने को किया गया प्रशिक्षित

संप्रेक्षण गृह के बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने को किया गया प्रशिक्षित

गाजीपुर। महिला कल्याण विभाग के अंतर्गत संचालित राजकीय प्लेस ऑफ सेफ्टी तथा राजकीय संप्रेक्षण किशोर गृह पर शुक्रवार को ली बेकरी पुणे के द्वारा पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ प्रधान मजिस्ट्रेट किशोर न्याय बोर्ड शांभवी के नेतृत्व में किया गया। इस प्रशिक्षण में निरुद्ध बच्चों को चॉकलेट, केक, पिज़्ज़ा व अन्य बेकरी से संबंधित सामानों को बनाने का प्रशिक्षण दिया गया। राजकीय संप्रेक्षण किशोर गृह में उन नाबालिग बच्चों को रखा जाता है, जो किसी अपराध में लिप्त पाए जाते हैं। नाबालिग बच्चों को यहां से रवानगी के बाद समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए महिला कल्याण विभाग द्वारा व्यावसायिक प्रशिक्षण देने का कार्य शुरू किया गया है। जिला प्रोबेशन अधिकारी प्रभात कुमार ने बताया कि राजकीय संप्रेक्षण गृह किशोर में मौजूदा समय में विभिन्न मामलों में 57 बच्चों को निगरानी में रखा गया है। इन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़ने व आत्मनिर्भर बनाने के लिए विभाग प्रशिक्षित कर रहा है। बच्चों को विभिन्न बेकरी ट्रेड से जुड़े हुए सामानों को बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि उनकी यह सोच है कि आने वाले समय में बच्चे संप्रेक्षण गृह से अपने परिवार के पास जाएं तो इस कदर प्रशिक्षित रहें कि उन्हें अपराध की तरफ रुख न करना पड़े। जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि आने वाले समय में जिला प्रोबेशन विभाग के द्वारा नियमित प्रशिक्षण देने की कार्य योजना बनाई गई है जिसके लिए खाद्य विभाग में लाइसेंस के लिए प्रार्थना पत्र दिया जा चुका है। प्रशिक्षित बच्चों द्वारा तैयार सामग्री में से विभाग द्वारा सिर्फ लागत विभाग लेगा और जो भी बचत होगी वह बच्चों के खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी। इस मौके पर समाज कल्याण अधिकारी राम नगीना यादव, जिला कार्यक्रम अधिकारी दिलीप पांडेय, महिला कल्याण अधिकारी नेहा राय, गीता श्रीवास्तव, शिखा सिंह गौतम, लक्ष्मी मौर्या, प्रभारी अधीक्षक चंद यादव, एडीओ आईएसडी ओमप्रकाश यादव, गोपाल, सुशील वर्मा, ली बेकरी पुणे की श्वेता संदीप, सिंधु पांडेय के साथ विभागीय कर्मचारी मौजूद रहे।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.