हमें जान से मारने की यह चौथी घटना है: ओमप्रकाश राजभर

हमें जान से मारने की यह चौथी घटना है: ओमप्रकाश राजभर

गाजीपुर। सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं जहूराबाद के विधायक ओमप्रकाश राजभर के साथ हुई बदसलूकी तथा उन पर दर्ज फर्जी मुकदमें को वापस लेने के साथ ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर समाजवादी पार्टी तथा सुभासपा की ओर से वृहस्पतिवार को सरजू पांडेय पार्क में धरना प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर वक्ताओं ने चेतावनी दिया कि यदि हमारी मांगें पूरी नहीं होती है तथा दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो प्रदेश सरकार की ईंट से ईंट बजा दी जायेगी। कार्यक्रम के बाद उपजिलाधिकारी सदर को चार सूत्रीय मांग पत्र सौंपा गया।धरना सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी ने कहा कि भाजपा की सरकार परी तरह से तानाशाह हो गई है। यह सरकार संविधान के साथ खिलवाड़ कर रही है और लोकतंत्र की हत्या करने पर उतारू है। विरोधी दलों के बड़े बड़े नेताओं के साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है। जब विरोधी दल का नेता किसी के घर जा कर न तो संवेदना व्यक्त कर सकेगा और न ही किसी कार्यक्रम में शामिल हो पायेगा तो प्रदेश में लोकतंत्र ही कहां है ? उन्होंने  भाजपा सरकार पर आरोप लगातेहुए कहा कि प्रदेश के गुंडों और माफियाओं को सत्ता का संरक्षण प्राप्त हो गया है और वह भाजपा नेताओं के इशारे पर विरोधी दल के नेताओं पर हमले कर रहे हैं। इस समय हालत यह है कि भाजपा के साथ जुड़ कर गुंडे , माफिया और पुलिस बेलगाम हो गये है। सरकार का इन पर कोई नियंत्रण नहीं रह गया है। भाजपा सरकार में समाजवादियों एवं उनके सहयोगी दलों के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के साथ अन्याय और उत्पीड़न किया जा रहा है। यह सरकार अन्याय और ज़ुल्म के खिलाफ आवाज उठाने वाले राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं को पुलिस की लाठी और गोली के बल पर कुचलना चाहती है। इस सरकार से न्याय की उम्मींद करना बेकार है। उन्होंने कहा कि सरकार का काम होता है जनता की बुनियादी जरूरतों को पूरा करना मगर भाजपा सरकार हर मुद्दें पर विफल हो गई है। जनता का ध्यान भटकाने के लिए मंदिर मस्जिद का खेल खेलने लगती है। इस प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज ही नहीं बची है। इसी क्रम में सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने अपने साथ हुई घटना का जिक्र करते हुए बताया कि उन पर किया गया हमला दलितों, वंचितों और पिछड़ों के हित के लिए उठ रही हमारी आवाज पर हमला है। उन्होंने कहा मैं गरीबों, दलितों, पिछड़ों की आवाज उठाता रहूंगा चाहे इसके लिए कोई भी कुर्बानी देनी पड़े। उनके अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि जेल का दरवाजा खुला रखे, मैं किसी भी ताकत के सामने झुकने वाला नहीं हूं। उन्होंने कहा कि भाजपा लगातार हमें जान से मारने की साज़िश रच रही है। हमें जान से मारने की यह चौथी घटना है। उन्होंने जिला एवं पुलिस प्रशासन द्वारा कार्यक्रम की अनुमति होने के बावजूद टेंट और माइक उखाड़ने पर एतराज़ जताते हुए कोतवाल के खिलाफ कार्रवाई की मांग किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सपा के जिलाध्यक्ष रामधारी यादव एवं संचालन जिला उपाध्यक्ष कन्हैया लाल विश्वकर्मा ने किया। इस मौके पर पूर्व विधायक अम्बिका चौधरी, दुर्गा यादव, विधायक ओमप्रकाश सिंह, डा. वीरेंद्र यादव, विधायक जै किशन साहू,  बेदी राम, मन्नू अंसारी, प्रभु नारायन यादव, पूर्व सांसद जगदीश कुशवाहा, राम किशुन यादव, पूर्व मंत्री शैलेन्द्र यादव ललई, मदन सिंह यादव, संग्राम यादव, आशुतोष सिन्हा, सुभासपा के जिलाध्यक्ष लल्लन राजभर, नफीस अहमद, राजमंगल यादव, डा. बलिराम राजभर, विच्छेलाल राजभर, अमरजीत बिंद, जयनाथ राजभर, राजेश सिंह, एचएन सिंह पटेल, लाल बहादुर यादव, कमलाकांत राजभर, पूजा सरोज, हवलदार यादव, सत्यनारायण राजभर, राम जतन राजभर रामदहिन पासवान, शक्ति सिंह, संतोष पाण्डेय, राजेश कुशवाहा, परशुराम राजभर, प्रभाकर जायसवाल, दरोगा प्रसाद सरोज, बेचई सरोज, जय प्रकाश अंचल, मो.रिजवी, प्रेम चंद प्रजापति, डा. नन्हकू यादव, दिनेश यादव, अरुण कुमार श्रीवास्तव आदि समेत बड़ी संख्या में दोनों दलों के नेता तथा कार्यकर्ता उपस्थित थे।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published.