भाजपा नेताओं ने तोडा लॉक डाउन, रोकने पर पुलिसकर्मी को दी लाइन हाजिर कराने की धमकी

भाजपा नेताओं ने तोडा लॉक डाउन, रोकने पर पुलिसकर्मी को दी लाइन हाजिर कराने की धमकी

ग़ाज़ीपुर। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रसार को रोकने का एक मात्र विकल्प है, लॉक डाउन। पीएम मोदी के आदेश पर पूरा देश पिछले 36 दिनों से इसपर कड़ाई से पालन कर रहा है पर सत्ता के घमंड में चूर चंद रुपयों के लिए कुछ लोगों द्वारा लॉक डाउन की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। सत्ता के रोब में वे अपनी जान के साथ दुसरो की जान के साथ भी खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे है। प्रशासन द्वारा रोके जाने पर उनको देख लेने तक की धमकी दे डाल रहे है और जनता पर रौब झाड़ने के लिए खुद वीडियो बना वायरल करा दे रहे है।

लॉक डाउन के उलंघन पर सजा का प्रावधान

लॉक डाउन के दौरान प्रशासन ने जनसुविधा हेतु किरानो और सब्जियों की दुकानों को फिजिकल डिस्टेंसिंग मेंटेन करते हुए सुबह 3 घण्टों के लिए 6 से 9 खोलने की अनुमति प्रदान कर रखी है। 9 बजे के बाद प्रशासन द्वारा बिक्री करते पाए जाने पर लॉक डाउन के उलंघन की सजा का प्रावधान है।

ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मी को दी लाइन हाजिर करने की धमकी

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि कोतवाली क्षेत्र के चीतनाथ घाट बाजार में मंगलवार को लगभग 9:30 बजे किराने की एक दुकान पर भारी भीड़ देख वंहा ड्यूटी पर तैनात सिपाही ने उक्त दुकानदार को टोका, जिसपर दुकानदार भड़क उठा और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए सिपाही को दौड़ा लिया। जिससे भरे बाजार भगदड़ की स्थिति बन गयी। दुकानदार को रौब गांठते देख उसी के घर वालो ने वीडियो बनाना शुरू कर दिया। वीडियो में उक्त दुकानदार पुलिस वाले को धमकाते हुए अपना नाम निर्गुण दास केसरी बता रहा है तथा पुलिस वाले को आज के आज लाइन हाजिर कराने समेत वर्दी उतरवाने तक की धमकी दे रहा है।

पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल का खास है उक्त भाजपा नेता

मौके पर बिना मास्क के मौजूद भाजपा के पूर्व नगर अध्यक्ष रास बिहारी राय बीच बचाव करते नजर आ रहे है। दुकानदार के घर वालो ने जनता में रौब झाड़ने के लिए वीडियो इस उद्देश्य से वायरल कर दिया कि हम सत्ताधारी लोग पुलिस से नहीं डरते। वीडियो की पड़ताल में पता चला कि पुलिस पर रोब गाठने वाला उक्त दुकानदार नगरपालिका का मनोनीत सभासद और भाजपा नेता निर्गुण दस केसरी है, जिसे पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल का खास माना जाता है। पुलिस प्रशासन द्वारा वायरल वीडियो की जांच पड़ताल की जा रही है, सही पाए जाने पर कठोर से कठोर कार्यवाही की बात कहि जा रही है। खबर लिखे जाने तक उक्त भाजपा नेता के खिलाफ कोई लिखित शिकायत दर्ज नहीं की गयी थी। वही वायरल वीडियो को सोशल मिडिया जमकर शेयर किया जा रहा है तथा आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की जा रही है।

adminpurvanchal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *